SiGMA

खेलों के परिणाम को करप्ट करना

प्रकाशित किया गया जनवरी 25, 2023 10:48 श्रेणी: खेल सट्टेबाज़ी , भूमि-आधारित , यूरोप , द्वारा प्रकाशित किया गया Lea Hogg द्वारा अनुवाद किया गया Dhananjay Pachori

मैच फिक्सिंग से जुड़े स्कैंडल और भ्रष्टाचार दशकों से चले आ रहे हैं। प्रचारित खेलों की चमकदार छवि के नीचे धोखेबाज एजेंट और खिलाड़ी या अधिकारी हैं जो खेलों को करप्ट करने के इच्छुक हैं। खेल पत्रकार और FIFA के पूर्व रेफरी Christopher Francalanza ने SiGMA समाचार से बात करते हुए कहा, “जब आप मैच फिक्सिंग की कहानियां देखते हैं तो हमेशा दुख होता है।” “यह एक कैंसर की तरह है, और मेरी राय में, किसी भी एथलीट या खेल व्यवस्थापक जो एक खेल आयोजन के परिणाम में हेरफेर करता है, उसे अधिकतम सजा के साथ दंडित किया जाना चाहिए।”

corrupting outcome of sports
Christopher Francalanza

कानून की अनभिज्ञता आपको निर्दोष नहीं बनाती, इसलिए Boukholda पर भी आजीवन प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था।

International Tennis Integrity Agency ने दो टेनिस खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाया

इस महीने International Tennis Integrity Agency (ITIA) ने दो अल्जीरियाई टेनिस खिलाड़ियों को खेल से प्रतिबंधित कर दिया, क्योंकि उन्हें 2016 से कई मैच फिक्सिंग गतिविधियों का दोषी पाया गया था। Mohamed Hassan पर आजीवन खेलने पर प्रतिबंध लगाया गया और सात मैचों के दौरान 29 अपराधों के लिए 12,100 अमेरिकी डॉलर का जुर्माना लगाया गया है। Huria Boukholda पर 10,000 अमेरिकी डॉलर का जुर्माना लगाया गया और पांच मैचों से संबंधित 15 मैच फिक्सिंग अपराधों के लिए 18 महीने के लिए प्रतिबंधित किया गया।

ITIA के एक प्रवक्ता ने कहा, “अपराध के समय Boukholda की उम्र और अनुभवहीनता के कारण, यह निर्धारित किया गया था कि खिलाड़ी को Hassan द्वारा प्रभावित किया गया था और इसलिए उस पर थोड़ी नरमी बरती गई।” इसके अतिरिक्त यह नोट किया गया कि बेल्जियम में चल रही कानून प्रवर्तन जांच के हिस्से के रूप में अपराधों के सबूत सामने आए।

Francalanza ने नोट किया कि Hassan का दुनियाभर में 1476वां रैंक था, Boukholda के विपरीत, जो अभी भी अपेक्षाकृत युवा और अज्ञात हैं। उन्होंने कहा कि मैच फिक्सिंग “युवा एथलीटों और व्यवस्थापकों के बीच अधिक आम है, जिन्हें चैंपियंस के जैसे अच्छी राशि भुगतान नहीं की जाती है, उदाहरण के लिए Rafa Nadal, Novak Djokovic और अन्य।” उनका मानना है कि अन्य खेलों में मैच फिक्सिंग आमतौर पर निचले स्तर की लीगों में होती है।

“इन एथलीटों को कभी-कभी जल्दी पैसा बनाने के लिए गेम्स को फिक्स करने के लिए कहा जाता है जिसके लिए उन्हें ब्लैकमेल किया जाता है या उन पर कुछ दबाव डाला जाता है”, वे कहते हैं। वे इसे अपने लिए पैसे कमाने के अवसर के रूप में देख सकते हैं, खासकर अगर उनका वेतन कम है।

अज्ञानता आपको निर्दोष नहीं बनाती

प्रभावी रूप से, मैच फिक्सिंग की समस्या के पीछे आमतौर पर प्रभावशाली आपराधिक संगठन और मास्टरमाइंड होते हैं। Francalanza चाहते हैं कि कोई भी व्यक्ति जो सीधे तौर पर खेल में हेरफेर करने की कोशिश करता है और मैच फिक्सिंग का दोषी पाया जाता है, उसे किसी भी खेल आयोजन में भाग लेने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। उनका मानना है कि “कानून की अज्ञानता आपको निर्दोष नहीं बनाती है, इसलिए Boukholda पर भी आजीवन प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था। हालांकि केवल अदालतें ही सभी गवाहियों और परिस्थितियों को सुनने के बाद न्यायोचित फैसला दे सकती हैं।”

मैच फिक्सिंग की वैश्विक समस्या

मैच फिक्सिंग के लिए एक अकेला संचालक होना लगभग असंभव है। पसंदीदा तरीकों में से एक सिंडिकेट के लिए घरेलू मैचों को सेट करना है ताकि परिणाम तय करने के लिए सहमत होने वाले रेफरी को नियुक्त किया जा सके। ऐसे मामले सामने आए हैं जहां बेटिंग(सट्टेबाजी) के बाजार के लिए एक पूरा टूर्नामेंट फिक्स किया गया है। यह एक ऐसा दरवाजा है जो उन लोगों के लिए खुला है जो सिस्टम का दुरुपयोग करना ठान के रखे हैं। मिडिल मैन(मध्यस्थ संस्थाएं) तब बिक्री और टीवी अधिकारों द्वारा पैसे कमाते हैं।

स्थानीय फुटबॉल

Francalanza अपने कुछ अनुभवों के बारे में बताते हैं जब उनने फ़ुटबॉल मैच फिक्स होते देखे। “2013 में माल्टा में चार राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ियों को मैच फिक्सिंग के लिए आजीवन प्रतिबंध दिया गया था, और अभी हाल ही में, जनवरी 2018 में, माल्टीज़ राष्ट्रीय टीम में एक और घोटाला हुआ। छह अंडर -21 खिलाड़ी पाए गए जिन्हें मैच फिक्सिंग का दोषी पाया गया था।” वह 2013 की एक घटना को याद करते हैं जब एक मुखबिर ने प्रीमियर लीग की एक टीम में मैच फिक्सिंग का खुलासा किया था।

हाल ही में 2021/22 में, Attard Football Club ने सीजन की शुरुआत -9 अंकों के साथ की, जब उनकी कमेटी के एक सदस्य ने एक मैच फिक्स करने की कोशिश करने की बात स्वीकार की।

निकोसिया विश्वविद्यालय द्वारा सर्वेक्षण

मैच फिक्सिंग का खतरा बहुत वास्तविक है। साइप्रस में निकोसिया विश्वविद्यालय द्वारा हाल ही में प्रकाशित ‘क्लब फुटबॉल में मैच फिक्सिंग का सामना करना‘ नामक एक रिपोर्ट में पाया गया कि 114 माल्टीज़ लीग फुटबॉलरों में से 93 ने जवाब दिया कि उन्हें संदेह है कि वे जिस आधिकारिक मैच में खेले थे वह फिक्स था।

खेलों में ईमानदारी

Christopher Francalanza स्वयं को भाग्यशाली मानते हैं क्योंकि उन्होंने फ़ुटबॉल में अपने इक्कीस वर्षों के अनुभव के दौरान कभी भी किसी मैच फ़िक्सिंग का सामना नहीं किया है। उन्होंने अंत में कहा “यदि आप मैचों में हेरफेर करने के लिए संपर्क नहीं किए जाना चाहते हैं, तो आपको हमेशा एक ईमानदार व्यक्ति होना चाहिए और अपनी सीमाओं को बनाए रखना चाहिए चाहे आप खेल के मैदान पर हों या बाहर। यदि आप हितों के संभावित टकराव का सामना करते हैं तो यह अनिवार्य है कि आप किसी भी गलत काम को तुरंत रिपोर्ट करें।”

हालांकि यह सोचने वाली बात है कि क्या कोई टीम फिक्सरों से बची हुई है।

Christopher Lawrence Francalanza ने SiGMA समाचार से बात की। वह पूर्व FIFA और एलीट फुटबॉल असिस्टेंट रेफरी हैं। वह 21 साल बाद 37 साल की उम्र में एक्टिव रेफरी के पद से सेवानिवृत्त हुए। अपने करियर के दौरान Francalanza ने माल्टा में प्रीमियर स्तर पर 250 से अधिक मैचों में अंपायरिंग की और विदेशों में 44 अंतरराष्ट्रीय हाई प्रोफाइल खेलों में भाग लिया। वह MCAST में पत्रकारिता पर लेक्चर देते हैं और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध पत्रकारों के साथ काम करते हैं जो खेलों को संचालित करने वाले संस्थानों पर नजर रखते हैं।

संबंधित पोस्ट

चौथी तिमाही के नतीजों में…

यूके गेमिंग ऑपरेटरों द्वारा चौथी तिमाही के लिए ट्रेडिंग में नकारात्मक प्रभाव रिपोर्ट किए जाने की उम्मीद है। इसके अलावा…

खेलों के परिणाम को करप्ट…

मैच फिक्सिंग से जुड़े स्कैंडल और भ्रष्टाचार दशकों से चले आ रहे हैं। प्रचारित खेलों की चमकदार छवि के नीचे…